जिला समिति सम्मेलन

कार्यक्रम विद्या भारती मध्यभारत प्रान्त की योजना अनुसार सरस्वती विद्या मंदिर आष्टा में सीहोर जिला समिति सम्मेलन का आयोजन किया गया। जिसमें प्रांतीय संगठन मंत्री श्री हितानंद जी शर्मा प्रांतीय सचीव श्री मोहन लाल जी गुप्ता राजगढ़ विभाग समन्वयक श्री चन्द्रहंस जी पाठक एवं सीहोर जिला प्रतिनिधि श्री राम प्रताप सिंह जी राजपूत का पाथेय प्राप्त हुआ।

ग्राम संपर्क अभियान के अंतर्गत वर्तमान व्यवस्थापक आदरणीय श्री सुरेश जी के गांव प्रवास हुआ प्रवास के दौरान खेत पर मक्के के भुट्टो का आनंद लेते हुए पूर्व व्यवस्थापक आदरणीय मधु जी पाठक एवं अन्य स्वजन उसके बाद दाल बाटी खाओ प्रभु के गुण गाओ ।
ग्राम संपर्क अभियान के अंतर्गत वर्तमान व्यवस्थापक आदरणीय श्री सुरेश जी के गांव प्रवास हुआ प्रवास के दौरान खेत पर मक्के के भुट्टो का आनंद लेते हुए पूर्व व्यवस्थापक आदरणीय मधु जी पाठक एवं अन्य स्वजन उसके बाद दाल बाटी खाओ प्रभु के गुण गाओ ।

प्रातःकालीन सभा

प्रातःकालीन सभा प्रातःकालीन सभा प्रतिदिन सुबह कुछ मिनट सभा के लिए बिताए जाते है और विद्यार्थी क्रम से उस दिन का विचार और साथ ही साथ दिन के महत्वपूर्ण समाचारों को बोलते हैं।

विद्यालय पत्रिका

विद्यालय पत्रिका ‘देवपुत्र‘ परिचालन में है जो संपूर्ण विद्यालय के विद्यार्थियों और शिक्षकों की लाक्षणिक विशेषताओं को प्रकट करता है ।

पुस्तकालय और प्रयोगशालाएॅं

पुस्तकालय विद्यार्थियों को पुस्तकें, समाचार पत्र और पत्रिकाएॅं पढ़ने के लिए आमंत्रित करता है । यह लगभग सभी प्रकार के और सभी विषयों के पुस्तकों का भडारगृह है ।

त्यौहार और उत्सव

जहॉं तक त्यौहारों का संबंध है, विद्यार्थी सारे राष्ट्रीय त्यौहारों जैसे  गांधी जयंती, स्वतंत्रता दिवस, गणतंत्र दिवस, शिक्षक दिवस, गुरू नानक जयंती और इसी प्रकार के अन्य त्यौहार महान उत्साह से मनाते हैं ।

बौद्धिक क्रियाकलाप

ये प्रतियोगिताओं यथा भाषण, उच्चारण, कहानी वाचन, हस्तलेख, मेंहदी ये प्रतियोगिताओं यथा भाषण, उच्चारण, कहानी वाचन, हस्तलेख, मेंहदीमॉंड़, गणित प्रश्नमंत्र, विज्ञान प्रश्नमंत्र और अन्य इसी प्रकार के क्षेत्र सहित सार्थकरूप से संगठित किए जाते है।

खेलकूद

खेलकूद हमारे विद्यालय में प्रोत्साहित किया जाता है । श्रेष्ठ खेलकूद खेलकूद हमारे विद्यालय में प्रोत्साहित किया जाता है । श्रेष्ठ खेलकूद सुविधाओं और विविध खेल विधाओं में  समर्पित प्रशिक्षकों ने विद्यालय  खेलदल का निर्माण्ध किया है ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *